कामवाली को दीवाली का प्यार से भरा तौहफा दिया

हैलो दोस्तों , मेरा नाम Lovely gajju है और मेरी उम्र 28 साल है। मेरी डील-डोल काफी अच्छी है। ऊंचाई मेरी 5’7″ है और लंड 6.5″ लम्बा और 3″ मोटा है। मैं गुजरात का रहने वाला हूं। मुझे सेक्स काहानियां पढ़नी बहुत अच्छी लगती है, खास करके shemale sex stories, कामवाली और aunties वाली कहानियां ।

ये मेरी पहली real sex story है। ये बात दीवाली के दिन की है। मेरे घर में में मेरे माता-पिता और मेरी बीवी समेत 4 लोग रहते है। मेरे माता-पिता दीवाली के दिन रिश्तेदारों के घर पे गए थे, और मेरी बीवी को भी अपने पिता के यहां जाना था।

हमारे यहां घर का काम करने कुसुम आती है।
कुसुम देखने मे सांवली पर आकर्षक लगती है। उसका आकार 36″26″34″ है। और जब वो आती है, तो एक-दम सज-धज के आती है। मानो किसी को भी पागल बना दे। उसकी उमर 24 साल है । उसके घर की परिस्थिति सही नही होने से, लड़की पूरा दिन काम करके गुज़ारा करती है।

दीवाली के दिन जब वो काम पे आई, तो एकदम नई दुल्हन के जैसी सलवार पहन कर आई थी। उसको देख कर ऐसा लग रहा था, कि मानो ईमान डोल जाए। एक-दम कस्सी हुई सलवार कमीज़ थी उसकी, और बदन मानो किसी हिरोइन को टक्कर दे रहा हो। उसके स्तन इतने आकर्षित करते थे, कि मानो नज़र ही ना हटे।

हमारी दोनों की अच्छी बनती थी, तो मैंने मज़ाक में उसको देख कर बोला-

मैं: कुसुम तुम एक-दम पटाखा लग रही हो। अपने बाॅयफ्रैंड को मिलने जाने वाली हो क्या?

उसने ठंडी सांसे लेके बोला-

कुसुम: काहे का बाॅयफ्रैंड? काम से फुरसत मिले, तो आप जैसा कोई बाॅयफ्रैंड ढूंडू ।

ये सुन कर मैं तो खुशी से फूल गया। क्योंकि उसको मैं अच्छा लगता था । फिर वो मेरे कमरे की सफाई करने अंदर आयी। तभी मैंने उसको प्यार से अपने पास बिठाया, और पूछा-

मैं: क्या चाहिए बोनस में?

उसने शर्माते हुए कहा: आप जो भी चाहो।

मैं तो मस्ती के मूड में था। तो मैंने उसके गाल पे किस करके बोला-

मैं: मैं तो ऐसा प्यार बहुत दे सकता हूं।

वो एक-दम से शर्मा गई, और अपने हाथ मसलने लगी। फिर वो धीरे से बोली-

कुसुम: ऐसा प्यार अगर मिल जाये, तो दीवाली बन जाये।

मेरी तो खुशी का ठिकाना ना रहा, और फटाक से मैंने उसको अपनी तरफ खींच कर चूमना चालू किया। वो एक-दम पानी-पानी सी होने लगी । उसके होंठ एक-दम मुलायम से पंखुड़ी जैसे थे। जब मैंने उसकी गर्दन पे चुम्बन किए, तो एक-दम से वो मेरे सिर पे हाथ फेरने लगी, और गरम होने लगी।

फिर धीरे से मैंने उसकी सलवार ऊपर की। उसने सफेद रंग की ब्रा पहनी हुई थी। उसके सावले से बदन ने, और ब्रा-पैंटी के इस मेल ने मेरे लंड को लोहे जैसा खड़ा कर दिया। वो भी मेरे लंड को महसूस करते हुए अपने प्यारे से हाथ से पकड़ कर सहलाने लगी । फिर उसने मेरा पजामा नीचे करके लंड को हाथ मे लिया, और गीला किया।

मैं उसके स्तनों को इतना चूमने लगा, कि वो उछलने लगी, और आवेश में आके मुझे किस करने लगी। इतना प्यार तो मेरी बीवी भी नहीं किया था, जितना वो मुझे चूम रही थी। मैं तो मानों जन्नत में पहुंच गया। फिर मैंने उसकी पैंटी निकाल कर उसकी चूत का दीदार किया। मैं तो देखता ही रह गया।

हल्के से बालों के बीच मानो जैसे कोई स्वर्ग का दरवाजा हो। मैंने फिर रसपान चालू किया। क्या स्वाद था दोस्तों। मैंने फिर अपनी उंगली अंदर डाली, तो एक-दम से वो आहें भरने लगी। वो बहुत गीली हो गई थी। फिर मैं उसको बैड पर पटक कर उसके ऊपर चढ़ गया, और उसको प्यार करने लगा। उसने फिर बोला-

कुसुम: अब और ना तड़पाओ, और अपना लंड अंदर डाल दो।

फिर मैंने अपने लंड को गीला करके उसकी चूत पे लगाया और जोर से अंदर घुसा दिया। वो चिल्लाई। फिर मैं उसके स्तनों पर किस करने लगा। तब वो शांत हो गई, और मज़े लेने लगी फिर मैं धक्के पे धक्के मारने लगा, और वो बोली-

कुसुम: आह-आह, और ज़ोर से, मज़ा आ रहा है। और तेज़ आह, और तेज़।

वो ये बड़बड़ कर ने लगी। फिर उसने अपना गर्म लावा छोड़ा, और मैं तुरन्त उसका पानी पी गया। फिर वो मेरे लंड को एक-दम ज़ोर से अपने मुंह में लेके आगे पीछे करने लगी, और मेरा वीर्य निकाल दिया । उसका पूरा मुह मेरे वीर्य से भर गया और वो पूरा निगल गई ।

फिर उसने लंड चूस कर फिर से खड़ा कर दिया । फिर मैंने उसको अपने ऊपर लिया, और वो मेरे लंड पे अपनी चूत सेट करके उछलने लगी ।
वो अपनी गांड उठा कर ऊपर-नीचे उछलने लगी। इतना मज़ा आ रहा था, कि बस करते ही जाओ।

कुसुम: और करो आह.. और करो, तेज़, और तेज़।

रूम में उसकी आवाजें गूंजने लगी। फिर मैंने रफ्तार बढ़ाई, और उसने दो बार अपना पानी छोड़ दिया । अब मेरा निकलने वाला था, तो वो फिर से लंड को निकाल कर अपने मुंह में लेने लगी और पूरा वीर्य पी गई ।

इतना मज़ा पहले कभी नहीं आया था मुझे। मेरी बीवी भी नहीं देती थी ऐसा मज़ा, जो मुझे कुसुम से मिला। फिर मैं उसको चूमने लगा, और बहुत प्यार किया। उसके बाद हम लोग साथ में नहाने लगे। हमनें उस टाइम भी बहुत रोमांस किया, और दोनों ने oral सेक्स का मज़ा लिया।

उस दिन हमने 3 बार बढ़िया से सेक्स का मज़ा लिया, और फिर वो चली गई । जाते वक़्त मैंने उसको खुश होके एक ज्वैलरी गिफ्ट की, और पैसे भी दिए। उसने मुझे एक-दम से गले लगा लिया, और लम्बी किस भी की। फिर जब भी हमको मौका मिलता, हम ऐसे ही प्यार करते।

आपको मेरे सच्ची कहानीं कैसी लगी, आप कमैन्ट ज़रूर कीजिये, और मेल ज़रूर कीजिये। अगर आपको ये कहानी कामुक कर सकी हो, तो मुझे जरूर बताईये और कोई सुझाव हो तो मुझे जरूर मेल कीजिये ।

आपके साथ की गई हर एक मुलाकात गोपनीय रखी जायेगी, और आपके साथ सुरक्षित प्यार और दोस्ती रखी जायेगी ।

आगे और भी प्यार भरे किस्से है, जो अगली कहानी में बताएंगे। तो उम्मीद करता हूं कि आपकी और से प्यार मिलता रहेगा। और मेरी कहानी को अच्छी प्रतिक्रिया मिलेगी।

मेरा मेल आइडी [email protected] है। मुझे shemale, कामवाली, भाभी बहुत पसन्द है। आप मुझे मेरी hangout id पे भी संपर्क कर सकते है। कोई भी मेरे से ऐसा प्यार करना चाहे, तो मुझे मेल ज़रूर करें ।

आपकी मेल का इंतजार रहेगा । आपके comments की राह रहेगी । सबको Lovely Gajju का खड़े लंड से प्यार भरा सलाम । आगे ऐसी ही कहानी के लिए पढ़ते रहिये। इस वेबसाईट को धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.